20 July 2024

उत्तराखंड वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष शादाब शम्स ने पाकिस्तानी से आए ज़ायरीनों को दिया गंगा जल ,रुद्राक्ष की माला और “ श्रीमद्भागवत गीता “

0

पीरान कलियर शरीफ़ ।

उत्तराखंड वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष शादाब शम्स ने आज साबिर पाक के 755 वे उर्स में आये पाकिस्तान के 107 श्रद्धालुओं को वक़्फ़ बोर्ड की तरफ से रिटर्न गिफ़्ट के रूप में पाकिस्तानी ज़ायरीनों एवं ग्रुपलीडर अहसानुलहक़ को वाहक बनाकर पाकिस्तान के मंदिरों में मौजूद पुजारियों को सह सम्मान भेंट करने के लिए गंगा जल ,रुद्राक्ष की माला और “ श्रीमद्भागवत गीता “ व कलियर शरीफ़ दरगाह का प्रतिरूप भेंट किया ।पकिस्तानी जत्थे के लीडर अहसानउलहक ने कहा हम हिन्द का प्यार और सम्मान जिस विश्वास से हमे सौंपा गया है हम उसी सम्मान से पाकिस्तान के पुजारियों को मंदिर पहुँच कर सह सम्मान पहुँचाने का कार्य पूरी ईमानदारी से करेंगे हमने ये वादा साबिर पाक के दरबार में वक़्फ़ बोर्ड उत्तराखण्ड के अध्यक्ष शम्स से किया है, जिसका विडियो बनवाकर हम वहॉं से बहुत जल्द भेजेंगे जिससे एक दूसरे के प्रति सम्मान और विश्वास बढ़ सके ।

ये भी पढ़ें:   एक ऐसी फिल्म जो उत्तराखंड की सिनेमा को देगी अलग पहचान, पहली गढवाली सुपर नेचुरल थ्रिलर फिल्म हुई रिलीज

हम देश के यशस्वी प्रधानमंत्री माननीय नरेन्द्र मोदी जी व उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी व वक़्फ़ बोर्ड उत्तराखण्ड के शुक्रगुजार है कि उन्होंने ज़ायरीन के लिए बेहतर इंतज़ाम किये।वक़्फ़ बोर्ड अध्यक्ष शादाब शम्स ने कहा कि दुनियाँ के 150 cr सनातन प्रेमियों की आध्यात्मिक राजधानी देवभूमि उत्तराखण्ड कि धर्म नगरी हरिद्वार से पूरे भारत वासियों की ओर से यह संदेश भेजा जा रहा है के हम अतिथि देवों भवः के मानने वाले हैं और पूरी दुनिया को अपना परिवार मानते हैं इस लिए वसुधैव कुटुम्कम को चरितार्थ करने के लिए एवं विश्व शांति के लिए एक ईमानदार प्रयास कर रहे हैं बाकी अब पडौसी को साबित करना है वो कैसे आचरण करना चाहते हैं वो प्रेम कि जिस भाषा मे चाहेंगे उन्हें जवाब दिया जाएगा । इस अवसर पर उत्तराखण्ड हज कमेटी के अध्यक्ष हाजी खतीब अहमद ,वक़्फ़ बोर्ड मेम्बर इक़बाल अहमद ,मेम्बर अनीस अहमद, सूफ़ी संवाद के प्रदेश प्रमुख गुलफ़ाम शेख, प्रबंधक कलियर रज़िया बेहरोज़ आलम, अज़हर प्रधान आदि मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें:   मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ली कैबिनेट बैठक, बैठक में कई अहम फैसलों पर लगी मोहर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *