18 July 2024

सीएम धामी ने ने SDRF, उत्तराखण्ड पुलिस को दी शाबासी, 608 लोगों को SDRF ने किया सकुशल रेस्क्यू

0

 

जनपद उधमसिंहनगर में आपदा प्रभावित क्षेत्र में भ्रमण के दौरान माननीय मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा राहत एवं बचाव कार्यों में जूटी SDRF टीमों की महत्वपूर्ण भूमिका के लिए प्रशंसा करते हुए पीठ थपथपाई। साथ ही स्थानीय लोगों द्वारा उन्हें सकुशल रेस्क्यू करने के लिए SDRF रेस्क्यू टीम की सराहना की गई।

मणिकांत मिश्रा, सेनानायक SDRF द्वारा बताया गया कि SDRF की 05 टीमों द्वारा चंपावत व उधमसिंहनगर के आपदा प्रभावित क्षेत्रों में लगातार युद्धस्तर पर रेस्क्यू कार्य करते हुए 608 लोगों का जीवन सुरक्षित किया है।

ये भी पढ़ें:   सावधान - कहीं आपका प्लाट भी तो नही पढ़ा है खाली, अगर है तो हो जाए सावधान

SDRF रेस्क्यू टीमों का विवरण निम्नवत है:-

रेस्क्यू टीम -01

(एसआई मनीष भाकुनी, प्रकाश तिवारी, कांस्टेबल प्रदीप मेहता, सुरेश मेहरा, होमगार्ड राहुल, ललित बोरा)
रेस्क्यू किये गए लोगों की संख्या – 60

रेस्क्यू टीम-02

(हेड कांस्टेबल प्रवेश नगरकोटी, नरेंद्र सिंह, कृष्ण सिंह, नवीन पोखरिया, मनोज गहतोड़ी, ललित कुमार)
रेस्क्यू किये गए लोगों की संख्या – 54

ये भी पढ़ें:   केदारनाथ धाम में सोना चोरी विवाद, मंदिर समिति और शंकराचार्य आमने सामने

रेस्क्यू टीम-03

(SI नरेंद्र सिंह राणा, SI सुरेंद्र सिंह, आरक्षी अजीत सिंह, आरक्षी राजेंद्र नाथ, आरक्षी प्रकाश सिंह, आरक्षी भूपेंद्र कन्याल, होमगार्ड, जितेंद्र होमगार्ड, होमगार्ड दीक्षित कुमार)
रेस्क्यू किये गए लोगों की संख्या – 350

रेस्क्यू टीम-04

(मुख्य आरक्षी सुरेश बहुगुणा, आरक्षी प्रकाश मेहता, आरक्षी रविंद्र सिंह, आरक्षी प्रदीप रावत, आरक्षी शिवम सिंह, फायरमैन संदीप सिंह, चालक राहुल कुमार)
रेस्क्यू किये गए लोगों की संख्या – 112

ये भी पढ़ें:   उत्तराखंड में भारी बारिश का अलर्ट, सभी रहें सतर्क

रेस्क्यू टीम- 05

(SI मनोज रावत, ASI लाल सिंह, मुख्य आरक्षी महेंद्र सिंह, आरक्षी चंदन सिंह, आरक्षी अमन कुमार, आरक्षी रोहित परिहार, फायरमैन नितेश खेतवाल)
रेस्क्यू किये गए लोगों की संख्या – 32

SDRF रेस्क्यू टीमों द्वारा भारी बारिश के बीच युद्धस्तर पर मोर्चा संभाला गया। दोनों जनपदों में SDRF की 05 टीमों द्वारा कूल 608 लोगो को रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *