20 July 2024

हल्द्वानी दंगा, अवैध संबंध और फिर देंगे की आड़ में हत्याकांड, पूरे मामले को पढ़कर आप भी हैरान हो जाएंगे

0

8 फरवरी को हल्द्वानी में पुलिस और उपद्रवियों के बीच में जमकर हंगामा हुआ। इस दौरान उपद्रवियों ने जहां कई गाड़ियों को जला दिया तो पुलिस थाने को भी आग के हवाले कर दिया और इसी घटनाक्रम के बीच में छह लोगों की मौत भी हो गई।

दूसरी तरफ इसी दौरान बिहार के एक युवक की मौत सर पर गोली लगने से हुई जैसे ही खबर सामने आई, हर तरफ यही चर्चा शुरू हो गई कि आखिर मृतक प्रकाश कुमार के सर पर गोली किसने मारी?

 

 

उसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की और जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ी, तो अब जो खुलासा हुआ है वह चौंकाने वाला है। जांच में पता चला है कि प्रकाश कुमार की मौत की वजह गोली लगना जरूर है,लेकिन किसी दंगाई ने प्रकाश कुमार को गोली नहीं मेरी है।

 

प्रकाश को गोली मरना एक सोची समझी साजिश का हिस्सा था। पूरी प्लानिंग के साथ इसे अंजाम दिया गया था। अपराधी ने हल्द्वानी दंगों का पूरा फायदा उठाते हुए प्रकाश को गोली मारी थी।

ये भी पढ़ें:   मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ली कैबिनेट बैठक, बैठक में कई अहम फैसलों पर लगी मोहर

और अब इस पूरे मामले में जो सामने आ रही है, वह है अवैध संबंध।

 

 

बताते हैं आपको पूरा मामला

 

हल्द्वानी के एसपी प्रहलाद नारायण मीणा ने इस मामले को लेकर पूरी जांच में जो सामने आया है वह बताया है।

प्रहलाद नारायण मीणा ने बताया कि प्रकाश की मौत किसी दंगाई की गोली से नहीं बल्कि एक कांस्टेबल की गोली से हुई है। उन्होंने आगे बताया कि कांस्टेबल की पत्नी के साथ प्रकाश के अवैध संबंध थे और वह कांस्टेबल की पत्नी को लगातार ब्लैकमेल करता था। और इसी से परेशान होकर पति कांस्टेबल पत्नी और एक दोस्त ने इस हत्या को अंजाम देने का पूरा प्लान बनाया।

ये भी पढ़ें:   एक ऐसी फिल्म जो उत्तराखंड की सिनेमा को देगी अलग पहचान, पहली गढवाली सुपर नेचुरल थ्रिलर फिल्म हुई रिलीज

 

पुलिस ने 9 फरवरी को इंदिरा नगर रेलवे फटाक से आगे गोला बाईपास के पास एक शव को बरामद किया था। पहले तो पुलिस ने इसे भी हल्द्वानी देंगे का ही हिस्सा माना, लेकिन जब पुलिस ने प्रकाश मृतक के मोबाइल की डिटेल निकाली तो यह बड़ा खुलासा हुआ। प्रकाश सितारगंज के किसी युवक के संपर्क में था, साथ ही उत्तराखंड के ही एक और नंबर पर लगातार उसकी बातचीत हो रही थी। 

आगे जैसे-जैसे पुलिस ने छानबीन की तो और खुलासे होते गए। जांच में पता चला कि प्रकाश और सूरज नाम का युवक दोस्त थे लंबे समय से दोनों का एक दूसरे के घर आना जाना भी था। इसी दौरान प्रकाश का अवैध संबंध सूरज की बहन और कांस्टेबल की पत्नी के साथ बन गए।

 

अवैध संबंध अब अवैध शारीरिक संबंध के रूप में बदल गए और प्रकाश ने इस दौरान वीडियो भी बना डाली। धीरे-धीरे वह महिला को ब्लैकमेल भी करने लगा और पैसों की मांग भी करने लगा।

ये भी पढ़ें:   मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ली कैबिनेट बैठक, बैठक में कई अहम फैसलों पर लगी मोहर

 

पहले तो जैसे कैसे आरोपी महिला मामले को संभालती रही लेकिन जब मामला बहुत आगे बढ़ गया तो उसने अपने पति कांस्टेबल वीरेंद्र को यह बात बताई।

इसके बाद ही कांस्टेबल वीरेंद्र ने अपने एक साथी नईम खान के साथ मिलकर इस पूरे हत्याकांड का रोड मैप बनाया।

 

आगे जाकर उसने प्रकाश को हल्द्वानी बुलाया फिर वीरेंद्र ने प्रकाश कुमार से अपने मोबाइल से अपनी पत्नी की वीडियो हटाने के लिए कहा लेकिन प्रकाश ने साफ मना कर दिया। उसके बाद कांस्टेबल वीरेंद्र ने बुधवार की शाम को अपने तो उसके साथ मिलकर प्रकाश के सर पर गोली मार दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *