20 July 2024

गणेश गोदियाल ने यूपी के सीएम को बता डाला गुरु भाई, और अनिल बलूनी पर लगाए कई गंभीर आरोप

0

इस बार के लोकसभा चुनाव में उत्तराखंड की पांच लोकसभा सीटों में चुनाव एक समान नजर नहीं आ रहा है… जहां पौड़ी गढ़वाल को छोड़कर अन्य सभी सीटों में कांग्रेस और भाजपा की टक्कर एक समान नजर नहीं आ रही है, तो गढ़वाल सीट में कांग्रेस और भाजपा दोनों ही के प्रत्याशी जमकर जनसभाएं कर रहे हैं..साथ ही दोनों डोर टू डोर भी वोटरों से मिल रहे हैं।

 

 

अभी तक जहां बीजेपी की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत भाजपा के तमाम स्टार प्रचारकों ने अपनी पूरी ताकत झोंकी है, वहीं 14 अप्रैल को यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने भी उत्तराखंड के दो स्थानों पर रोड शो व जनसभाएं की।

ये भी पढ़ें:   एक ऐसी फिल्म जो उत्तराखंड की सिनेमा को देगी अलग पहचान, पहली गढवाली सुपर नेचुरल थ्रिलर फिल्म हुई रिलीज

 

दूसरी तरफ कांग्रेस के प्रत्याशी गणेश गोदियाल ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और खुद को “गुरु भाई” बता डाला है… जो चर्चा का विषय बन गया है…

 

 

गणेश गोदियाल ने एक जनसभा में कहा कि योगी आदित्य नहीं चाहते हैं कि मैं गणेश गोदियाल का विरोध करने के लिए जनसभा करूं, लेकिन उनके ऊपर पार्टी का दबाव है…इसलिए वह स्टार प्रचारक के तौर पर श्रीनगर में भाजपा प्रत्याशी के लिए वोट मांगने आ रहे हैं…

ये भी पढ़ें:   मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ली कैबिनेट बैठक, बैठक में कई अहम फैसलों पर लगी मोहर

 

गणेश गोदियाल यही नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि, उत्तराखंड के दो पूर्व मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत और त्रिवेंद्र सिंह रावत को हटाने में भी अनिल बलूनी का योगदान रहा है…जो पौड़ी गढ़वाल से भाजपा के प्रत्याशी हैं… आगे उन्होंने कहा कि अब वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कुर्सी में भी छेद करने में लगे हुए हैं…

 

गणेश गोदयाल ने योगी को संदेश देते हुए कहा है कि आप गुरु गोरखनाथ के चेले हैं और मैं बाबा केदारनाथ का चेला, गुरु गोरखनाथ का चेला और केदारनाथ का चेला, “हम दोनों गुरु भाई” हैं। भाजपा ने जिन्हें पौड़ी गढ़वाल सीट अपना प्रत्याशी बनाया है वह अमित शाह का चेला है।

ये भी पढ़ें:   मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ली कैबिनेट बैठक, बैठक में कई अहम फैसलों पर लगी मोहर

 

गणेश गोदियाल ने पौड़ी गढ़वाल की जनता से अपील की है कि अब आपके सामने दो प्रत्याशी हैं एक केदारनाथ का चेला है व दूसरा अमित शाह का चेला। यह अब आपको तय करना है कि आप किसे चुनते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *